D.El.Ed. और B.Ed. Full Form, अंतर, और Course कैसे करते हैं

D.El.Ed. और B.Ed. Full Form, अंतर, और Course कैसे करते हैं: दोस्तों, स्वागत है आप सभी का एक नए आर्टिकल में। इसमें हम B.Ed और D.El.Ed. के बारे में बात करेंगे कि B.Ed और D.El.Ed. क्या होता है? B.Ed और D.El.Ed. कितने वर्ष का होता है, D.El.Ed. और B.Ed. Full Form क्या है, इनकी प्रक्रिया क्या होती है और अमरोहा में B.Ed. या D.El.Ed. करने के लिए आप कौन कौन से कॉलेज का चयन कर सकते हैं।

D.El.Ed. और B.Ed. Full Form

सबसे पहले बात करते हैं B.Ed का फुल फॉर्म क्या होता है? B.Ed का मतलब है, Bachelor Of Educationबैचलर ऑफ एजुकेशन“। बी.एड एक स्नातक डिग्री है वहीं D.El.Ed. एक diploma होता है जिसका मतलब होता है Diploma in Elementary Education “डिप्लोमा इन एलिमेंटरी एजुकेशन” इसे पहले BTC के नाम से भी जाना जाता था जिसका बाद में नाम बदल दिया गया।

B.Ed. या D.El.Ed. कोर्स क्यों करते हैं?

अब बात करते हैं D.El.Ed. या B.Ed. करने के बाद क्या बनते हैं? दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं, भारत में शिक्षक बनने के लिए, आपको विभिन्न प्रकार के शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम करने होंगे, उनमें से एक बहुत प्रसिद्ध शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम बी.एड. और D.El.Ed. हैं।

बी.एड. कोर्स को करने के बाद आप उच्च माध्यमिक स्तर तक के शिक्षक बन सकते हैं। जबकि D.El.Ed. कोर्स करने के बाद आप प्राथमिक स्तर तक के अध्यापक बन सकते हैं।

लेकिन आप जानते हैं कि एक शिक्षक के लिए कितनी बड़ी जिम्मेदारी होती है, बच्चों को पढ़ाना हमेशा आसान काम नहीं होता है।इन पाठ्यक्रम के दौरान, आपको सिखाया जाता है कि बच्चों को कैसे पढ़ायाजाता है। इसलिए अगर आप भी शिक्षक बनने और बच्चों की परवरिश में रुचि रखते हैं, तो आप इन कोर्स को कर सकते हैं। जानकारी के लिए आप आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

आपको B.Ed और D.El.Ed. कोर्स के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी जैसे B.Ed और D.El.Ed. कोर्स कोर्स क्या हैं, पाठ्यक्रम की अवधि क्या है, शुल्क क्या है, प्रवेश प्रक्रिया क्या है, किसी को क्या सीखने को मिलता है, प्रवेश परीक्षा कैसे होती हैं और कॉलेज कैसे मिलता है।

यदि आप शिक्षक प्रशिक्षण या अन्य कैरियर से संबंधित जानकारी चाहते हैं, तो AmrohaNow को सब्सक्राइब जरूर करें आपको आने वाली पोस्ट की जानकारी ईमेल पर मिलती रहेगी, ताकि आप अपने करियर से संबंधित लेखों की सूचना प्राप्त कर सकें।

शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों में “बैचलर ऑफ एजुकेशन” और “डिप्लोमा इन एलिमेंटरी एजुकेशन” सबसे प्रसिद्ध पाठ्यक्रम हैं। आप यह कोर्स इंटर या ग्रेजुएशन के बाद कर सकते हैं। इन पाठ्यक्रमों के दौरान, आपको बच्चों को बेहतर तरीके से सिखाने के लिए सैद्धांतिक और व्यावहारिक तरीकों से पढ़ाया जाता है।

जैसा कि आप जानते हैं कि शिक्षण एक बहुत ही कठिन प्रक्रिया है, इसलिए इस पाठ्यक्रम के दौरान, आप इस तरह से तैयार होते हैं कि आप बच्चों को बेहतर समझ सकें, उनकी ज़रूरतों को समझ सकें। एक शिक्षक से ज्यादा उनके साथ एक दोस्त की तरह घुलमिल जाता है। ताकि आसानी से अपने विषय की व्याख्याकर सकें।

जैसा कि कहा जाता है, शिक्षक कितना भी जानता हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता यह मायने रखता है कि वह छात्रों को कितना समझा सकता है। इसलिए इन सभी चीजों को लेने के बाद आपका पूर्ण कौशल विकास किया जाता है ताकि आप बच्चों को बेहतर तरीके से पढ़ा सकें।

B.Ed. या D.El.Ed. में दाखिला कैसे लें

B.Ed. या D.El.Ed. कैसे करें? इसको बेहतर तरीके से समझने के लिए मैंने नीचे एक चार्ट में समझाया है। इसके द्वारा आप समझ सकते हैं कि B.Ed. या D.El.Ed. में दाखिला या admission लेने की क्या प्रक्रिया रहती है और दोनों में क्या अंतर होता है।

B.Ed. के लिए प्रवेश परीक्षा देना अनिवार्य होता है चाहे आप प्राइवेट कॉलेज से B.Ed. करना चाहते हैं अथवा सरकारी से। आपको सरकारी कॉलेज में दाखिला मिलेगा या प्राइवेट कॉलेज में इसके लिए परीक्षा के अर्जित अंकों के आधार पर कट ऑफ़ तैयार की जाती है। इस परीक्षा में अनुत्तीर्ण विद्यार्थी भी प्राइवेट कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं लेकिन जिसने इस परीक्षा में भाग नहीं लिया है वो एडमिशन नहीं ले सकते हैं।

D.El.Ed. और B.Ed. Full Form, अंतर, और Course कैसे करते हैं

D.El.Ed. में दाखिला लेने के लिए आवेदन करना होता है जिसमें दसवीं, बारहवीं और स्नातक में अंकों के प्रतिशत के आधार पर कट ऑफ़ तैयार होती है जिसके आधार पर सरकारी कॉलेज का आवंटन होता है। सरकारी कॉलेज अथवा DIET में जो लोग सेलेक्ट नहीं होते हैं वो प्राइवेट कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं।

D.El.Ed. में दाखिले का आवेदन न भी किया हो तब भी डायरेक्ट एडमिशन हो जाता है। लेकिन प्राइवेट कॉलेज डायरेक्ट एडमिशन की फीस कुछ ज्यादा लेते हैं।

B.Ed. या D.El.Ed. कोर्स किसे करना चाहिए?

अगर आपको पढ़ाना पसंद है, आप शिक्षक बनने के शौकीन हैं तो आप यह कोर्स कर सकते हैं। बहुत सारे लोग इन कोर्स को इसलिए भी करते हैं क्योंकि इनमें सरकारी नौकरियों की बहुत संभावनाएं हैं।

B.Ed कोर्स की अवधि क्या है?

B.Ed का पाठ्यक्रम अब दो रूपों में चल रहे हैं, स्नातक होने के बाद, आप 2 वर्षों में B.Ed और D.El.Ed. कर सकते हैं। और अगर आपने पहले ही तय कर लिया है कि आपको शिक्षक प्रशिक्षण करके शिक्षक बनना है, फिर आप इंटरमीडिएट के बाद ही 4 साल के एकीकृत बीएड कोर्स में शामिल हो सकते हैं।

इसके तहत आपको 4 साल में ग्रेजुएशन और बीएड दोनों की डिग्री मिलती है।

4 साल के एकीकृत पाठ्यक्रम के तहत, आप कर सकते हैं B.A plus B.Ed, B.Sc plus B.Ed या B.Com plus B.Ed.

अगर आपका ग्रेजुएशन पूरा हो गया है, तो आप 2 साल के B.Ed कोर्स में भी शामिल हो सकते हैं। कई कॉलेजों में 4 साल का कोर्स शुरू हो गया है, जबकि कई कॉलेजों में 2 साल का कोर्स भी चल रहा है। इसलिए अपनी रुचि और सुविधा के अनुसार आप या तो प्रारूप चुन सकते हैं।

अभी ज्यादातर सरकारी कॉलेजों में 4 साल का B.Ed कोर्स शुरू हुआ है और वहां फीस कम है।

B.Ed कोर्स के लिए पात्रता क्या है?

आपका 12 वीं या स्नातक में न्यूनतम प्रतिशत 50 होना चाहिए, लेकिन कुछ कॉलेज उच्च प्रतिशत की भी मांग कर सकते हैं।

यदि आप रिजर्व श्रेणी के हैं, तो आपको 5% छूट मिलेगी। आपकी आयु 12 वीं के बाद न्यूनतम 16 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए। और यदि आप स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद शामिल होना चाहते हैं, तो आपकी आयु न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 40 वर्ष होनी चाहिए।

B.Ed कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या है?

आप B.Ed पाठ्यक्रम में प्रवेश दो तरीकों से प्राप्त कर सकते हैं, सीधे प्रवेश और प्रवेश परीक्षा के माध्यम से। कई निजी कॉलेज हैं जहां आपको अपने अंकों के आधार पर सीधे प्रवेश मिलता है।

लेकिन ऐसे कई सरकारी कॉलेज हैं जहां फीस कम है, आपको प्रवेश परीक्षा के लिए लिखना और अर्हता प्राप्त करनी होगी। लगभग हर राज्य अपनी अलग प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है। कई विश्वविद्यालय अलग से अपनी प्रवेश परीक्षा भी आयोजित करते हैं।

B.Ed और D.El.Ed.पाठ्यक्रम Fee क्या है?

B.Ed कोर्स की Fee एक सरकारी कॉलेज में कम और निजी कॉलेज में अधिक है, सरकारी कॉलेज में फीस 5000 प्रति वर्ष से शुरू होती है, जबकि निजी कॉलेज में, आपको प्रति वर्ष 50000 तक का भुगतान करना पड़ सकता है।

4 साल के लिए एकीकृत B.Ed पाठ्यक्रम की फीस के बारे में बात करते हुए, अब अधिकतम सरकारी कॉलेज में पाठ्यक्रम शुरू हो गए हैं, फिर वहां फीस कम है।

B.Ed कोर्स के दौरान आप निम्नलिखित में से किसी भी विषय में विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं।

  • अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत
  • उर्दू, पंजाबी, भौतिकी
  • रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, एकीकृत विज्ञान
  • गणित, इतिहास, राजनीति विज्ञान
  • अर्थशास्त्र, मनोविज्ञान, भूगोल
  • समाजशास्त्र, सामाजिक विज्ञान, गृह विज्ञान
  • तमिल और अन्य

बी.एड कोर्स के बाद करियर विकल्पों की बात कर लेते हैं

  • आप उच्च शिक्षा के लिए जा सकते हैं, या आप काम कर सकते हैं
  • उच्च शिक्षा में आप एम.एड. या पीएचडी भी करते हैं।
  • यदि आप नौकरी के लिए जाते हैं, तो आप सरकारी और निजी क्षेत्र में शिक्षक बन सकते हैं।
  • इसके अलावा, आप एक कंटेंट राइटर, न्यूज़ एंकर, लाइब्रेरियन, काउंसलर आदि बन सकते हैं।

B.Ed हो या डी.एल.एड. दोनों में ही सरकारी नौकरी के लिए भर्ती मुख्य परीक्षा, TET या CTET की परीक्षा देना होता है।

B.Ed के बाद आप TGT, पीजीटी के लिए भी बढ़ सकते हैं। इसलिए अगर मैं अपने अनुभव के आधार पर कहूं तो डी.एल.एड के जगह बी.एड. करना बेहतर विकल्प है क्योंकि इसमें ऐसा होगा की आप वहां भी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हो जहाँ एक डी.एल.एड. किया उम्मीदवार कर सकता है लेकिन इसके आलावा भी आपके पास अन्य अधिक विकल्प रहेंगे।

B.Ed. और D.El.Ed. College in Amroha

अमरोहा क्षेत्र में B.Ed. या D.El.Ed. करने के लिए काफी सारे कॉलेज मिल जायेंगे लेकिन आपको प्राइवेट या निजी कॉलेज के लिए बेहतर कॉलेज का ही चयन करना चाहिए। कुछ कॉलेज में एडमिशन के बाद आपको ठगा सा महसूस होगा क्योंकि बाद में आपको पता चलेगा की कॉलेज में क्लास नहीं चलती हैं। सीधा वहां परीक्षाएं हो रही हैं, सत्र के बीच बीच में अलग अलग चीजे के, प्रैक्टिकल के नाम पर पैसे मांगे जा रहे हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए।

1. Anekant College Gajraula for B.Ed. and D.El.Ed.

काफी और भी कॉलेज हैं लेकिन मैं व्यक्तिगत तौर पर आपको Anekant College of Higher Education, Gajraula की सलाह दूंगा। मेरे कुछ परिचित और दोस्त वहां से पढ़ाई कर रहे हैं और कुछ कर चुके हैं। यहाँ रेगुलर classes लगती हैं और आपको प्रैक्टिकल इत्यादि के लिए कोई भी पैसे की मांग नहीं की जाएगी।

कॉलेज का वातावरण से लेकर लाइब्रेरी, लैब इत्यादि की एकदम बढ़िया व्यवस्था मिलती है। कॉलेज से संपर्क करने के लिए आप नीचे दिए गए कॉलेज के पोस्टर में दिए गए नंबर लेकर संपर्क कर सकते हैं।

चाहें तो आप सीधा कॉलेज जा सकते हैं जिसका गूगल मैप पर लोकेशन नीचे दिया गया है।

क्या आप भी किसी अन्य कॉलेज के स्टाफ या संचालक हैं?

हमारी वेबसाइट पर अपने कॉलेज के बारे में विज्ञापन देने के लिए आप हमसे हमसे यहाँ संपर्क कर सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों, मुझे उम्मीद है कि मैं आपको D.El.Ed. और B.Ed. Full Form, डी.एल.एड. और B.Ed कोर्स के बारे में बुनियादी लेकिन महत्वपूर्ण जानकारी देने में सक्षम रहा हूँ। D.El.Ed. या B.Ed. के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप official website विजिट कर सकते हैं। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर करें। यदि आपके पास मुझसे कोई सुझाव या प्रश्न हैं, तो मुझे टिप्पणी अनुभाग में बताएं, धन्यवाद।

नोट: यहाँ कॉलेज के बारे में सुझाव मैंने अपने अनुभव के आधार पर दिया है। सभी का अनुभव और कॉलेज के बारे में विचार अलग भी हो सकता हैं। अगर आप भी अमरोहा जिले में कॉलेज संचालक हैं जहाँ पर बी.एड. या डी.एल.एड. पाठ्यक्रम मौजूद है और हमारी वेबसाइट पर उसके बारे में प्रकाशित करवाना चाहते हैं तो हमसे यहाँ संपर्क करें

Leave a Comment